Gita 1:16

Gita Chapter-1 Verse-16

अनन्तविजयं राजा कुन्ती पुत्रो युधिष्ठिर: ।
नकुल: सहदेवश्च सुघोषमणिपुष्पकौ ।।16।।



कुन्ती[1] पुत्र राजा युधिष्ठिर[2] ने अनन्त विजय नामक और नकुल[3] तथा सहदेव[4] ने सुघोष और मणिपुष्पक नामक शंख बजाये ।।16।।

King Yudhisthira, son of Kunti, blew his conch Anantavijaya; while Nakula and Sahadeva blew theirs, known as Sughosa and Manipuspaka respectively.




Verses- Chapter-1

1 | 2 | 3 | 4, 5, 6 | 7 | 8 | 9 | 10 | 11 | 12 | 13 | 14 | 15 | 16 | 17, 18 | 19 | 20, 21 | 22 | 23 | 24, 25 | 26 | 27 | 28, 29 | 30 | 31 | 32 | 33, 34 | 35 | 36 | 37 | 38, 39 | 40 | 41 | 42 | 43 | 44 | 45 | 46 | 47

Chapter
One (1) | Two (2) | Three (3) | Four (4) | Five (5) | Six (6) | Seven (7) | Eight (8) | Nine (9) | Ten (10) | Eleven (11) | Twelve (12) | Thirteen (13) | Fourteen (14) | Fifteen (15) | Sixteen (16) | Seventeen (17) | Eighteen (18)

References and context

  1. ये वसुदेवजी की बहन और भगवान श्रीकृष्ण की बुआ थीं। Mahabharata में महाराज पाण्डु की ये पत्नी थीं।
  2. युधिष्ठिर Mahabharata में पांच पाण्डवों में सबसे बड़े भाई थे। Mahabharata के नायकों में समुज्ज्वल चरित्र वाले ज्येष्ठ पाण्डव थे।
  3. नकुल कुन्ती के नहीं अपितु माद्री के पुत्र थे। वे कुशल अश्वारोही और जानवरों के विशेषज्ञ थे।
  4. पांडु के पाँच पुत्रों में से सबसे छोटे थे। वे बहुत सुन्दर और सुकुमार थे।

Related Articles